Dr. Shubham S Negi (Laparoscopic Surgeon)

M.S (GEN.SURGERY)
11 Years Experience
Book Appointment

About Dr. Shubham S Negi

General & Laparoscopic G.I.Surgeon

Dr. Negi has experience of more than 13 yrs in all type of laparoscopic and general surgery at tertiary level public hospitals in gujarat and other institutes.

Dr Negi has a keen interest in laparoscopic surgery like laparoscopic gall bladder removal surgery, appendix, hernia repair surgeries endoscopy, endocrine, breast surgery, re operative abdominal surgeries,and all type of general surgeries.

Clinic Address & Location

home Sudarshan Gynaec and Surgical Hospital
location_on

209, Chankya Plaza, Below Allen career institute,New C G Road, Chandkheda, Ahmedabad

call
+91-9979895087
watch_later
Clinic Timings
Mon - Sat
10-30 am to 01-00 pm
and
06-30 pm to 08-00 pm
Thursday
08-00 am to 09-00 am
and
06-30 pm to 08-00 pm

Educational Qualifications

M.S (GEN.SURGERY)
Netaji Subhash Chandra Bose Medical College, Jabalpur,
2006

Experience

WORKED AS CONSULTANT SURGEON AND ASSISTANT PROFESSOR IN SURGERY AT B J MEDICAL COLLEGE, AHMEDABAD
July 2006 - August 2016

Publications

Management of Ruptured Liver Abscess: A Study of 54 Cases
International Journal of Science and Research (IJSR) ISSN (Online): 2319-7064 Volume 4 Issue 1, January 2015
In 2015
Spontaneous hemoperitoneum
GUJARAT MEDICAL JOURNAL / JULY-2015 Vol. 70 No. 2
In 2015

My News Feed

Posted on 26 Oct 2016
MOTION SE HI EMOTION”-CONSTIPATION:NEED FOR TREATMENT All of us have seen Movie PIKU and had a great laugh watching movie. In PIKU, they narrated story of a person with long time constipation, his treatment methods, and emotions attached with his problem. Story of the movie was true in sense that our emotions are connected with our motions. If we have a good motion in the morning, feel good factor remains for whole day. When such a movie impresses the audience, there is an element of reality which makes us love the movie. Many of us like PIKU, because atleast once in a while, we have a person in our family who is chronically constipated ( and sometimes we ourself are that person). Let us understand Constipation and its treatment in this article. –SO, IS THIS CONSTIPATION A DISEASE? NO, Constipation is a symptom, which signifies that something is not right there in our intestines. And this problem is very common in population.as per data ,2% population is suffering from constipation. Out of them ,1:2 female, and 1:3 male, above age of 65 have constipation. -IS NOT PASSING STOOL FOR ONE DAY IS CONSTIPATION? NO , as per definition, one, or all of the following symptoms is an indication of constipation- STRAINING ON MORE THAN 25% OF BOWEL MOVEMENT FEELING OF INCOMPLETE EVAUATION IN >25% BOWEL MOVEMENTS. HARD STOOL IN >25%. INFREQUENT DEFECATION WITH THREE OR LESS BOWEL MOVEMENTS IN A WEEK. –WHAT ARE THE CAUSES OF CONSTIPATION? There are multiple causes of constipation and sometimes more than one cause is present in one person. most important cause are as listed: 1.Faulty Diet and Habits LIKE -Inadequate bulk (fiber) Excessive ingestion of foods that harden stools (e.g., cheese) -Lack of exercise -Ignoring call to stool -Laxative abuse -Environmental changes (e.g., hospitalization, vacation) 2.Structural or Functional Disorder 3.NEUROGENIC:DISEASE BEYOND INTESTINES 4.PSYCHIATRIC: DEPRESSION 5.SOME DRUGS and IMMOBILIZATION 6.ENDOCRINE AND METABOLIC :SOME DISEASE PROCESS. -WHY CONSTIPATION SHOULD BE EVALUATED AND TREATED: As pointed above, constipation is mostly due to lifestyle causes, but significantly , and specially in elderly, some diseases process also present as warning signs of diseases. Like, feeling of incomplete passage of stool in a patient , with no previous complaint, MAYBE a sign of colon cancer. Constipation is leading reason for development of many painful complaints of bowel and anus like, -PILES, -FISSURE , -FISTULA, -PROLAPSE OF RECTUM. -DIVERTICULOSIS -INTUSUCCEPTION -IRRITABLLE BOWEL SYNDROME All this condition can be prevented by treatment of constipation at initial stage. -WHEN SHOULD PATIENT SEE A SURGEON FOR CONSTIPATION? NOT ALL CASES OF CONSTIPATION NEEDS SURGICAL TREATMENT. But if you have long term symptoms for constipation, like more than 10-15 days , without any cause, you must consult your doctor for finding out actual cause of your problem. But , there are some warning signs for which you must see your doctor as early as possible. –WHAT ARE THOSE WARNING SIGNS? Severe constipation – where you are unable to pass stool and flatus , and your belly size increasing, with or without abdominal pain and vomiting. Something flash like comes out when you pass stool, which reduced by pushing up. Bleeding and pain after passing stools. Bleeding may be like a jet or drops after stool or mixed with stool. Black colour stools. When you feel incomplete passage of stool and again have urge to pass stool after some time and you pass some sticky material. You have early morning diarrhea with passage of sticky material. You have family history of colonic cancer in your family. -HOW DOCTORS DETECT CAUSE?: Surgeons use various examination methods for treatment of constipation. Not all methods and investigations necessary for all patients but only if symptoms are suggestive of diseases and some abnormality is detected by surgeon during examination. Various procedures are- PHYSICAL EXAMINATION BY A SURGEON. STOOL EXAMINATION, BIOCHEMICAL EXAMINATION. BARIUM ENEMA. COLONOSCOPY PROCTOSCOPY DEFECOGRAPHY COLONIC TRANSIT TIME STUDY. ANORECTAL MANOMETRY. VARIOUS OTHER TESTS RARELY NEEDED. AGAIN, all precedures are not needed in all patients. mostly, a thorough clinical examination in clinic will suffice for diagnosis. -HOW IS CONSTIPATION TREATED? It is important to treat constipation at early stages. Adequate treatment of a patient with chronic constipation will lead to- -Restoration of normal frequency and consistency of stools, -Freedom from the discomforts ordinarily associated with constipation, -Maintenance of reasonably regular elimination without artificial aids, and -Relief of any generalized illness of which constipation may be a symptom. – -Prevention of complications due to constipations If there is no specific cause of constipation, or constipation is of recent onset, constipation is treated by following means: 1.lifestyle changes- Because the most common causes of constipation are faulty diet and habits, management often requires no more than careful examination and reassurance, together with simple guidance. like -Not to ignore the call for bowel movement because it disrupts normal funtioning of bowel. – Increasing water intake upto 2-3 liters per day if patient has no kidney disease. -Increasing fiber intake in diet- fruits ,vegetables eat-these-8-foods-to-relieve-constipation-and-fight-bloating2 A fruit basket and salad is key to avoid constipation -Increasing activity like walking, jogging , if possible, most of the patients claim an easier and more satisfactory bowel action with nothing more than a regular walk in the morning or evening. -Other factors, such as meal patterns (e.g., omission of breakfast), shift work, and dependence on fast foods, may contribute to abnormal bowel function -regular and balanced diet- if the patient consumes excessive ingestion of foods that cause hardened stools, such as processed cheese,or dairy products, such foods needs to be eliminated or at least reduced in quantity. the-best-and-worst-foods-to-eat-when-youre-constipated-diet What to eat and what not to eat to avoid constipation –WHAT IS MEDICAL MANAGEMENT OF CONSTIPATION: -Treatment of underlying cause as mentioned above , if found in examination, must be treated first and foremost. like in some form of disease called Irritable bowel syndrome needs multidisciplinary therapy in form of drugs and counselling too. Other than that,traditionally, the mainstay of treatment includes -Laxatives, -Suppositories, and -Enemas. there are many preparations available in market, both allopathic and ayurvedic and traditional which contains either fibers(Esabgol,Senna,Castor Oil,etc) which increase fiber content of stool,or drugs which increases water content of stool. But their long term use is not recommended as they may form a habit of taking them, and there will be “habitual constipation”, which will be difficult to treat. As there is saying in sanskrit ‘ ati sarvatr varjayet”(अति सर्वत्र वर्जयेत) , excess of medications without finding the cause will do harm , rather than benefit. -WHAT ARE RECENT ADVANCES IN SURGERY FOR CONSTIPATION: With advance in technology, and availability of sophisticated investigations, It is now being recognized that surgery has an increasing role to play in the management of these patients. And new methods have emerged for treatment of problems which could not be detected or treated before 10 to 20 years. So a case of chronic constipation may be treated efficiently by – MRI AND OTHER INVESTIGATIONS, – PHYSIOTHERAPY, -ENDOSCOPIC PROCEDURES – STAPLING PROCEDURES LIKE STARR (IN WHICH REMOVAL OF PART OF YOUR BOWEL IS DONE ENDOSCOPICALLY), for anatomic and structural defects in lower bowel ,which can be corrected endoscopically. -LAPAROSCOPIC SURGERY, for the defects like rectal prolapse, which can be treated in abdominal surgery. wjg-17-2411-g001 STARR PROCEDURE FOR ODS(CONSTIPATION) Therefore, WITH ADVANCING TECHNIQUES, CONSTIPATION MAY NO LONGER REMAIN A CHRONIC DISEASE, BUT IT CAN BE TREATED AT ITS ONSET, AND WE CAN PREVENT ITS COMPLICATIONS. And there are multiple options available to treat either by medicines, physiotherapy or surgery. SUMMARY: Constipation affects everybody’s life some or the other time in life, physically emotionally and financially. There are also problems and complications which occur as a consequence of ill-treated constipation. Not only it affects person, but peoples around them too. If we can find a perfect cause for constipation, we can cure it too, either by just some lifestyle changes, by proper medications, physiotherapy , and surgery. CONTACT US FOR FURTHER INFORMATION AT: SUDARSHAN HOSPITAL, 209, CHANAKYA PLAZA, NEW C G ROAD, CHANDKHEDA, AHMEDABAD. PH NO-079-23972423, 8460 3456 61 hospitalsudarshan@gmail.com Author: Dr.Shubham S.Negi M.S.,F.M.A.S. GENERAL AND LAPAROSCOPIC SURGEON. SUDARSHAN HOSPITAL 9979895087 disclaimer: all pictures are taken from public domain of free internet. author thanks the original publishers.
Posted on 26 Oct 2016
MOTION SE HI EMOTION”-CONSTIPATION:NEED FOR TREATMENT All of us have seen Movie PIKU and had a great laugh watching movie. In PIKU, they narrated story of a person with long time constipation, his treatment methods, and emotions attached with his problem. Story of the movie was true in sense that our emotions are connected with our motions. If we have a good motion in the morning, feel good factor remains for whole day. When such a movie impresses the audience, there is an element of reality which makes us love the movie. Many of us like PIKU, because atleast once in a while, we have a person in our family who is chronically constipated ( and sometimes we ourself are that person). Let us understand Constipation and its treatment in this article. –SO, IS THIS CONSTIPATION A DISEASE? NO, Constipation is a symptom, which signifies that something is not right there in our intestines. And this problem is very common in population.as per data ,2% population is suffering from constipation. Out of them ,1:2 female, and 1:3 male, above age of 65 have constipation. -IS NOT PASSING STOOL FOR ONE DAY IS CONSTIPATION? NO , as per definition, one, or all of the following symptoms is an indication of constipation- STRAINING ON MORE THAN 25% OF BOWEL MOVEMENT FEELING OF INCOMPLETE EVAUATION IN >25% BOWEL MOVEMENTS. HARD STOOL IN >25%. INFREQUENT DEFECATION WITH THREE OR LESS BOWEL MOVEMENTS IN A WEEK. –WHAT ARE THE CAUSES OF CONSTIPATION? There are multiple causes of constipation and sometimes more than one cause is present in one person. most important cause are as listed: 1.Faulty Diet and Habits LIKE -Inadequate bulk (fiber) Excessive ingestion of foods that harden stools (e.g., cheese) -Lack of exercise -Ignoring call to stool -Laxative abuse -Environmental changes (e.g., hospitalization, vacation) 2.Structural or Functional Disorder 3.NEUROGENIC:DISEASE BEYOND INTESTINES 4.PSYCHIATRIC: DEPRESSION 5.SOME DRUGS and IMMOBILIZATION 6.ENDOCRINE AND METABOLIC :SOME DISEASE PROCESS. -WHY CONSTIPATION SHOULD BE EVALUATED AND TREATED: As pointed above, constipation is mostly due to lifestyle causes, but significantly , and specially in elderly, some diseases process also present as warning signs of diseases. Like, feeling of incomplete passage of stool in a patient , with no previous complaint, MAYBE a sign of colon cancer. Constipation is leading reason for development of many painful complaints of bowel and anus like, -PILES, -FISSURE , -FISTULA, -PROLAPSE OF RECTUM. -DIVERTICULOSIS -INTUSUCCEPTION -IRRITABLLE BOWEL SYNDROME All this condition can be prevented by treatment of constipation at initial stage. -WHEN SHOULD PATIENT SEE A SURGEON FOR CONSTIPATION? NOT ALL CASES OF CONSTIPATION NEEDS SURGICAL TREATMENT. But if you have long term symptoms for constipation, like more than 10-15 days , without any cause, you must consult your doctor for finding out actual cause of your problem. But , there are some warning signs for which you must see your doctor as early as possible. –WHAT ARE THOSE WARNING SIGNS? Severe constipation – where you are unable to pass stool and flatus , and your belly size increasing, with or without abdominal pain and vomiting. Something flash like comes out when you pass stool, which reduced by pushing up. Bleeding and pain after passing stools. Bleeding may be like a jet or drops after stool or mixed with stool. Black colour stools. When you feel incomplete passage of stool and again have urge to pass stool after some time and you pass some sticky material. You have early morning diarrhea with passage of sticky material. You have family history of colonic cancer in your family. -HOW DOCTORS DETECT CAUSE?: Surgeons use various examination methods for treatment of constipation. Not all methods and investigations necessary for all patients but only if symptoms are suggestive of diseases and some abnormality is detected by surgeon during examination. Various procedures are- PHYSICAL EXAMINATION BY A SURGEON. STOOL EXAMINATION, BIOCHEMICAL EXAMINATION. BARIUM ENEMA. COLONOSCOPY PROCTOSCOPY DEFECOGRAPHY COLONIC TRANSIT TIME STUDY. ANORECTAL MANOMETRY. VARIOUS OTHER TESTS RARELY NEEDED. AGAIN, all precedures are not needed in all patients. mostly, a thorough clinical examination in clinic will suffice for diagnosis. -HOW IS CONSTIPATION TREATED? It is important to treat constipation at early stages. Adequate treatment of a patient with chronic constipation will lead to- -Restoration of normal frequency and consistency of stools, -Freedom from the discomforts ordinarily associated with constipation, -Maintenance of reasonably regular elimination without artificial aids, and -Relief of any generalized illness of which constipation may be a symptom. – -Prevention of complications due to constipations If there is no specific cause of constipation, or constipation is of recent onset, constipation is treated by following means: 1.lifestyle changes- Because the most common causes of constipation are faulty diet and habits, management often requires no more than careful examination and reassurance, together with simple guidance. like -Not to ignore the call for bowel movement because it disrupts normal funtioning of bowel. – Increasing water intake upto 2-3 liters per day if patient has no kidney disease. -Increasing fiber intake in diet- fruits ,vegetables eat-these-8-foods-to-relieve-constipation-and-fight-bloating2 A fruit basket and salad is key to avoid constipation -Increasing activity like walking, jogging , if possible, most of the patients claim an easier and more satisfactory bowel action with nothing more than a regular walk in the morning or evening. -Other factors, such as meal patterns (e.g., omission of breakfast), shift work, and dependence on fast foods, may contribute to abnormal bowel function -regular and balanced diet- if the patient consumes excessive ingestion of foods that cause hardened stools, such as processed cheese,or dairy products, such foods needs to be eliminated or at least reduced in quantity. the-best-and-worst-foods-to-eat-when-youre-constipated-diet What to eat and what not to eat to avoid constipation –WHAT IS MEDICAL MANAGEMENT OF CONSTIPATION: -Treatment of underlying cause as mentioned above , if found in examination, must be treated first and foremost. like in some form of disease called Irritable bowel syndrome needs multidisciplinary therapy in form of drugs and counselling too. Other than that,traditionally, the mainstay of treatment includes -Laxatives, -Suppositories, and -Enemas. there are many preparations available in market, both allopathic and ayurvedic and traditional which contains either fibers(Esabgol,Senna,Castor Oil,etc) which increase fiber content of stool,or drugs which increases water content of stool. But their long term use is not recommended as they may form a habit of taking them, and there will be “habitual constipation”, which will be difficult to treat. As there is saying in sanskrit ‘ ati sarvatr varjayet”(अति सर्वत्र वर्जयेत) , excess of medications without finding the cause will do harm , rather than benefit. -WHAT ARE RECENT ADVANCES IN SURGERY FOR CONSTIPATION: With advance in technology, and availability of sophisticated investigations, It is now being recognized that surgery has an increasing role to play in the management of these patients. And new methods have emerged for treatment of problems which could not be detected or treated before 10 to 20 years. So a case of chronic constipation may be treated efficiently by – MRI AND OTHER INVESTIGATIONS, – PHYSIOTHERAPY, -ENDOSCOPIC PROCEDURES – STAPLING PROCEDURES LIKE STARR (IN WHICH REMOVAL OF PART OF YOUR BOWEL IS DONE ENDOSCOPICALLY), for anatomic and structural defects in lower bowel ,which can be corrected endoscopically. -LAPAROSCOPIC SURGERY, for the defects like rectal prolapse, which can be treated in abdominal surgery. wjg-17-2411-g001 STARR PROCEDURE FOR ODS(CONSTIPATION) Therefore, WITH ADVANCING TECHNIQUES, CONSTIPATION MAY NO LONGER REMAIN A CHRONIC DISEASE, BUT IT CAN BE TREATED AT ITS ONSET, AND WE CAN PREVENT ITS COMPLICATIONS. And there are multiple options available to treat either by medicines, physiotherapy or surgery. SUMMARY: Constipation affects everybody’s life some or the other time in life, physically emotionally and financially. There are also problems and complications which occur as a consequence of ill-treated constipation. Not only it affects person, but peoples around them too. If we can find a perfect cause for constipation, we can cure it too, either by just some lifestyle changes, by proper medications, physiotherapy , and surgery. CONTACT US FOR FURTHER INFORMATION AT: SUDARSHAN HOSPITAL, 209, CHANAKYA PLAZA, NEW C G ROAD, CHANDKHEDA, AHMEDABAD. PH NO-079-23972423, 8460 3456 61 hospitalsudarshan@gmail.com Author: Dr.Shubham S.Negi M.S.,F.M.A.S. GENERAL AND LAPAROSCOPIC SURGEON. SUDARSHAN HOSPITAL 9979895087 disclaimer: all pictures are taken from public domain of free internet. author thanks the original publishers.
Posted on 08 Oct 2016
LAPAROSCOPY :Laparoscopic Surgery : Keyhole Surgery:Minimal Invasive Surgery( दूरबीन से पेट के ओपरेशन ) आज के बदलते समय में जहाँ टेक्नोलॉजी ने हमारे आसपास का सब कुछ बदल दिया है, वहीँ ओपरेशन पद्धति में भी टेक्नोलॉजी के आगमन से क्रांतिकारी परिवर्तन हुए हैं . ऐसा ही एक परिवर्तन है – “लेप्रोस्कोपी” या “की होल” या “दूरबीन से सर्जरी“. इस लेख का हिंदी में लिखने का उद्देश्य है कि इस ओपरेशन की प्रणाली को मरीज एवं सभी लोग समझें ताकि इसके फायदे पता चलें एवं भ्रम दूर हों . कुछ प्रश्न जो हर व्यक्ति लेप्रोस्कोपी के बारे में जानना चाहता है. (Frequently Asked Questions on Laparoscopy) 1.लेप्रोस्कोपी क्या है : लेप्रोस्कोपी , पेट के अन्दर दूरबीन डाल के अन्दर के अंगों की जांच और उसके रोगों के निदान की तकनीक है. इस तकनीक से विश्वभर में पेट के अन्दर के ही नहीं बल्कि छाती के अन्दर, फेफड़ों में और यहाँ तक की थाइरोइड के ओपरेशन भी सफलता पूर्वक किए जा रहे हैं. सन 1990 के बाद से यह तकनीक मरीजों के लिए वरदान साबित हो रही है एवं समय समय पर इसमें बड़े बदलाव भी आ रहे हैं जैसे HI DEFINITION ,रोबोट द्वारा सर्जरी, सिंगल पोर्ट( केवल एक 3 CM के नाभि पर एक चीरे से सर्जरी) , जटिल ओपरेशन के साधन , 3D तकनीक, जिससे इस तकनीक का इस्तेमाल मरीजों के लिए बहुत लाभदायक साबित हो रहा है. 2.इसमें ओपरेशन कैसे किया जाता है? सामान्य ओपरेशन से ये कैसे अलग होता है ? सामान्य ओपरेशन में जहाँ का ओपरेशन करना है वहां पर कम से कम 3 CM का चीरा लगाया जाता है , और जरूरत पड़ने पर बढाया जा सकता हैं img_20140904_124231 दूरबीन से एक ओपरेशन के बाद का फोटो : लगभग सभी ओपरेशन 4 से 5 इस तरह के Key holes से किये जा सकते हैं . लेप्रोस्कोपी तकनीक में मरीज को बेहोश करने के बाद पेट के ओपरेशन के लिए नाभि में एवं पेट के अन्य भाग में जरूरत के अनुसारले 5MM से ले के 10MM तक के चीरे रख के अन्दर दूरबीन डाली जाती है. एवं पेट को CO2 गैस डाल कर फुलाया जाता है, इससे अन्दर काम करने की जगह बनाकर दूरबीन से मोनिटर पर देख के ओपरेशन किया जाता है .ओपरेशन के बाद गैस निकाल कर टाँके लगा कर छेद बंद कर दिए जाते हैं . 3.लेप्रोस्कोपी के फायदे क्या क्या हैं? लेप्रोस्कोपी पेट के जिन रोगों में की जाती है उनमे मरीज को होने वाले फायदे , जो मरीज स्वयं एवं सगे सम्बन्धी प्रत्यक्ष रूप से महसूस कर सकते है और देख सकते हैं ,इस प्रकार हैं पेट में छोटे छोटे चीरे लगाये जाते हैं , जिससे ओपरेशन के बाद मरीज को दर्द कम होता हैं अस्पताल से जल्दी छुट्टी मिल जाती है. कम टाँके लगते हैं तो ड्रेसिंग में होने वाला दर्द भी कम होता है, अधिक समय तक आराम करने की आवश्यकता भी नही होती. इसके अलावा ,मरीज को और भी कुछ और फायदे हैं जो मरीज नहीं महसूस सकता परन्तु शरीर के लिए लाभदायक होते हैं जैसे- सामान्य ओपेरेशन में ज्यादा गहरा तक देखने के लिए बड़ा चीरा लगाना पड सकता है जबकि दूरबीन से पेट का हर कोना अच्छी तरह बड़ा करके (zoom) देखा जा सकता है, कभी कभी अधिक से अधिक ५ MM का एक और चीरा लगाने की आवश्यकता होती है . दूरबीन से पेट के और भी किसी अन्य रोग ,जिसका पता जांच में ना चल पाया हो, चाहे वो पेट के किसी और कोने में हो ,उसका भी निदान और उसी ओपरेशन के साथ या बाद में उपचार किया जा सकता है. चीरे एवं विच्छेदन कम होने से शरीर के अन्दर सूजन कम आती है फलस्वरूप घाव जल्दी से भरते हैं . ओपरेशन में रक्तस्त्राव कम होता है ,खून कम लगता है, तो खून चढाने की जरूरत भी कम होती है कम टाँके लगने से उनके पकने की सम्भावन अभी कम होती है. ये उन मरीजों के लिए ज्यादा लाभदायक होता है जिनका वजन ज्यादा होता है य पेट में चर्बी ज्यादा होती है. शरीर इस तरह के ओपरेशन को अच्छे से सहन कर सकता है, होस्पिटल में कम समय रहने से मरीज घर पर ज्यादा अच्छा महसूस करता है और जल्दी ठीक होता है. मरीज का खाना पीना जल्दी शुरू हो जाता है , इससे कमजोरी नहीं आती. १-२ दिन में मरीज सोकर यात्रा कर सकता है 4.लेप्रोस्कोपी के नुकसान क्या क्या हैं ? कभी कभी और किसी किसी मरीज में , बीमारी की अवस्था (स्टेज) के अनुसार , दूरबीन से ओपरेशन करना , या ओपरेशन को पूर्ण करना सम्भव नहीं होता , और उस ओपरेशन की जगह सामान्य ओपरेशन करना पड़ता है , जिसका निर्णय , सर्जन मरीज के हित में करता है . इस तरह देखा जाय तो , जब तक मरीज या बीमारी , दूरबीन से ओपरेशन के लिए उपयुक्त हो, दूरबीन से ओपरेशन करना मरीज के हित में है . 5.क्या लेप्रोस्कोपी इलाज महंगा है? नहीं , यदि आप सामान्य ओपरेशन में होने वाले खर्च जैसे ज्यादा दिन अस्पताल में रहने का खर्च, सम्बन्धियों के रहने का खर्च और दवाओं का खर्च ड्रेसिंग का खर्च एवं, मरीज को होने वाले फायदे देखें , इन सबके मुकाबले , लेप्रोस्कोपी का खर्च सिर्फ कुछ ही ज्यादा या बराबर होगा. इसके अलावा, किसी भी मरीज के लिए कोई भी ओपरेशन एक महत्वपूर्ण घटना एवं अनुभव होता है , और इसे भी मरीज कम दर्द के साथ अनुभव करे ऐसा हर डॉक्टर एवं मरीज की इच्छा होती है जो इस तरढ़ के ओपरेशन से संभव हो पाता है. पूर्व में लेप्रोस्कोपी भी काफी महँगी हुआ करती थी पर आजकल इसका खर्च कम होता है 6.कौन कौन से ओपरेशन दूरबीन से किये जा सकते हैं? सभी पेट के ओपेरेशन जैसे अपेंडिक्स पित्ताशय की पथरी (गाल ब्लेडर स्टोन ) पित्त नली की पथरी (पीलिया ) अन्ननली की रूकावट या कैंसर आंत पेट के अल्सर ,आंत के अल्सर , पेट की गठान लीवर , पैंक्रियास , तिल्ली (स्प्लीन) की गाँठ , सिस्ट हर्निया , किडनी की गाँठ एवं पथरी , गर्भाशय की गाँठ अंडाशय की गाँठ, सामान्य ओपरेशन के बाद हुई गाँठ (INCISIONAL HERNIA). नाभि की गाँठ(umbilical hernia) आँतों का आपस में चिपक जाना ,आँतों का उलझ जाना मल मार्ग का बहार आना, (prolapse) पेट के समस्त कैंसर जठर, अन्ननली , आंत ,गाल ब्लेडर ,लीवर,पैंक्रियास,-निदान और उपचार. प्रोस्टेट से पेशाब में रूकावट या कैंसर किडनी प्रत्यारोपण इत्यादि . वजन कम करने के ओपरेशन (Obesity Surgery) इस तरह, लेप्रोस्कोपी से लगभग सारे सामान्य एवं जटिल से जटिल ओपरेशन दूरबीन से किये जा सकते हैं केवल मरीज़ ओपरेशन के लिये फिट होना चाहिए. 7.रोबोटिक सर्जरी क्या है ? रोबोटिक सर्जरी लेप्रोस्कोपी का ही और परिष्कृत रूप है जिसमे रोबोट की सहायता से , सर्जन अधिक कार्य कुशलता से कार्य कर सकता है , ओपरेशन सर्जन ही करते हैं पर उसी कमरे में और 3D केमरे की सहायता से ओपरेशन किया जाता है. रोबोटिक सर्जरी से भी उपरोक्त्त सारे ओपरेशन किये जा सकते हैं, परन्तु अभी भी रोबोटिक सर्जरी में होने वाला खर्च अधिक है अतः केवल कुछ बड़े ओपरेशन में ही इसका उपयोग किया जाता है जिसमे अधिक कार्यकुशलता की ज़रुरत होती है . आने वाले समय में रोबोटिक सर्जरी से सारे ओपेरेशन करना आर्थिक रूप से संभव हो सकेगा . आशा करते हैं की इस माध्यम से लेप्रोस्कोपी से सम्बंधित समस्या का समाधान हुआ होगा .इसके अलावा लेप्रोस्कोपी से सम्बंधित अधिक जानकारी के लिए वेबसाइट (sudarshanhospital.wordpress.com) अथवा प्रश्न हमें ईमेल hospitalsudarshan@gmail.com पर भेज कर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. लेखक : © Dr Shubham S.Negi M.S. F M A S (Minimal Access Surgery) Consultant Laparoscopic & General Surgeon, Sudarshan Hospital,Ahedabad. Mo:9979895087
Posted on 08 Oct 2016
LAPAROSCOPY :Laparoscopic Surgery : Keyhole Surgery:Minimal Invasive Surgery( दूरबीन से पेट के ओपरेशन ) आज के बदलते समय में जहाँ टेक्नोलॉजी ने हमारे आसपास का सब कुछ बदल दिया है, वहीँ ओपरेशन पद्धति में भी टेक्नोलॉजी के आगमन से क्रांतिकारी परिवर्तन हुए हैं . ऐसा ही एक परिवर्तन है – “लेप्रोस्कोपी” या “की होल” या “दूरबीन से सर्जरी“. इस लेख का हिंदी में लिखने का उद्देश्य है कि इस ओपरेशन की प्रणाली को मरीज एवं सभी लोग समझें ताकि इसके फायदे पता चलें एवं भ्रम दूर हों . कुछ प्रश्न जो हर व्यक्ति लेप्रोस्कोपी के बारे में जानना चाहता है. (Frequently Asked Questions on Laparoscopy) 1.लेप्रोस्कोपी क्या है : लेप्रोस्कोपी , पेट के अन्दर दूरबीन डाल के अन्दर के अंगों की जांच और उसके रोगों के निदान की तकनीक है. इस तकनीक से विश्वभर में पेट के अन्दर के ही नहीं बल्कि छाती के अन्दर, फेफड़ों में और यहाँ तक की थाइरोइड के ओपरेशन भी सफलता पूर्वक किए जा रहे हैं. सन 1990 के बाद से यह तकनीक मरीजों के लिए वरदान साबित हो रही है एवं समय समय पर इसमें बड़े बदलाव भी आ रहे हैं जैसे HI DEFINITION ,रोबोट द्वारा सर्जरी, सिंगल पोर्ट( केवल एक 3 CM के नाभि पर एक चीरे से सर्जरी) , जटिल ओपरेशन के साधन , 3D तकनीक, जिससे इस तकनीक का इस्तेमाल मरीजों के लिए बहुत लाभदायक साबित हो रहा है. 2.इसमें ओपरेशन कैसे किया जाता है? सामान्य ओपरेशन से ये कैसे अलग होता है ? सामान्य ओपरेशन में जहाँ का ओपरेशन करना है वहां पर कम से कम 3 CM का चीरा लगाया जाता है , और जरूरत पड़ने पर बढाया जा सकता हैं img_20140904_124231 दूरबीन से एक ओपरेशन के बाद का फोटो : लगभग सभी ओपरेशन 4 से 5 इस तरह के Key holes से किये जा सकते हैं . लेप्रोस्कोपी तकनीक में मरीज को बेहोश करने के बाद पेट के ओपरेशन के लिए नाभि में एवं पेट के अन्य भाग में जरूरत के अनुसारले 5MM से ले के 10MM तक के चीरे रख के अन्दर दूरबीन डाली जाती है. एवं पेट को CO2 गैस डाल कर फुलाया जाता है, इससे अन्दर काम करने की जगह बनाकर दूरबीन से मोनिटर पर देख के ओपरेशन किया जाता है .ओपरेशन के बाद गैस निकाल कर टाँके लगा कर छेद बंद कर दिए जाते हैं . 3.लेप्रोस्कोपी के फायदे क्या क्या हैं? लेप्रोस्कोपी पेट के जिन रोगों में की जाती है उनमे मरीज को होने वाले फायदे , जो मरीज स्वयं एवं सगे सम्बन्धी प्रत्यक्ष रूप से महसूस कर सकते है और देख सकते हैं ,इस प्रकार हैं पेट में छोटे छोटे चीरे लगाये जाते हैं , जिससे ओपरेशन के बाद मरीज को दर्द कम होता हैं अस्पताल से जल्दी छुट्टी मिल जाती है. कम टाँके लगते हैं तो ड्रेसिंग में होने वाला दर्द भी कम होता है, अधिक समय तक आराम करने की आवश्यकता भी नही होती. इसके अलावा ,मरीज को और भी कुछ और फायदे हैं जो मरीज नहीं महसूस सकता परन्तु शरीर के लिए लाभदायक होते हैं जैसे- सामान्य ओपेरेशन में ज्यादा गहरा तक देखने के लिए बड़ा चीरा लगाना पड सकता है जबकि दूरबीन से पेट का हर कोना अच्छी तरह बड़ा करके (zoom) देखा जा सकता है, कभी कभी अधिक से अधिक ५ MM का एक और चीरा लगाने की आवश्यकता होती है . दूरबीन से पेट के और भी किसी अन्य रोग ,जिसका पता जांच में ना चल पाया हो, चाहे वो पेट के किसी और कोने में हो ,उसका भी निदान और उसी ओपरेशन के साथ या बाद में उपचार किया जा सकता है. चीरे एवं विच्छेदन कम होने से शरीर के अन्दर सूजन कम आती है फलस्वरूप घाव जल्दी से भरते हैं . ओपरेशन में रक्तस्त्राव कम होता है ,खून कम लगता है, तो खून चढाने की जरूरत भी कम होती है कम टाँके लगने से उनके पकने की सम्भावन अभी कम होती है. ये उन मरीजों के लिए ज्यादा लाभदायक होता है जिनका वजन ज्यादा होता है य पेट में चर्बी ज्यादा होती है. शरीर इस तरह के ओपरेशन को अच्छे से सहन कर सकता है, होस्पिटल में कम समय रहने से मरीज घर पर ज्यादा अच्छा महसूस करता है और जल्दी ठीक होता है. मरीज का खाना पीना जल्दी शुरू हो जाता है , इससे कमजोरी नहीं आती. १-२ दिन में मरीज सोकर यात्रा कर सकता है 4.लेप्रोस्कोपी के नुकसान क्या क्या हैं ? कभी कभी और किसी किसी मरीज में , बीमारी की अवस्था (स्टेज) के अनुसार , दूरबीन से ओपरेशन करना , या ओपरेशन को पूर्ण करना सम्भव नहीं होता , और उस ओपरेशन की जगह सामान्य ओपरेशन करना पड़ता है , जिसका निर्णय , सर्जन मरीज के हित में करता है . इस तरह देखा जाय तो , जब तक मरीज या बीमारी , दूरबीन से ओपरेशन के लिए उपयुक्त हो, दूरबीन से ओपरेशन करना मरीज के हित में है . 5.क्या लेप्रोस्कोपी इलाज महंगा है? नहीं , यदि आप सामान्य ओपरेशन में होने वाले खर्च जैसे ज्यादा दिन अस्पताल में रहने का खर्च, सम्बन्धियों के रहने का खर्च और दवाओं का खर्च ड्रेसिंग का खर्च एवं, मरीज को होने वाले फायदे देखें , इन सबके मुकाबले , लेप्रोस्कोपी का खर्च सिर्फ कुछ ही ज्यादा या बराबर होगा. इसके अलावा, किसी भी मरीज के लिए कोई भी ओपरेशन एक महत्वपूर्ण घटना एवं अनुभव होता है , और इसे भी मरीज कम दर्द के साथ अनुभव करे ऐसा हर डॉक्टर एवं मरीज की इच्छा होती है जो इस तरढ़ के ओपरेशन से संभव हो पाता है. पूर्व में लेप्रोस्कोपी भी काफी महँगी हुआ करती थी पर आजकल इसका खर्च कम होता है 6.कौन कौन से ओपरेशन दूरबीन से किये जा सकते हैं? सभी पेट के ओपेरेशन जैसे अपेंडिक्स पित्ताशय की पथरी (गाल ब्लेडर स्टोन ) पित्त नली की पथरी (पीलिया ) अन्ननली की रूकावट या कैंसर आंत पेट के अल्सर ,आंत के अल्सर , पेट की गठान लीवर , पैंक्रियास , तिल्ली (स्प्लीन) की गाँठ , सिस्ट हर्निया , किडनी की गाँठ एवं पथरी , गर्भाशय की गाँठ अंडाशय की गाँठ, सामान्य ओपरेशन के बाद हुई गाँठ (INCISIONAL HERNIA). नाभि की गाँठ(umbilical hernia) आँतों का आपस में चिपक जाना ,आँतों का उलझ जाना मल मार्ग का बहार आना, (prolapse) पेट के समस्त कैंसर जठर, अन्ननली , आंत ,गाल ब्लेडर ,लीवर,पैंक्रियास,-निदान और उपचार. प्रोस्टेट से पेशाब में रूकावट या कैंसर किडनी प्रत्यारोपण इत्यादि . वजन कम करने के ओपरेशन (Obesity Surgery) इस तरह, लेप्रोस्कोपी से लगभग सारे सामान्य एवं जटिल से जटिल ओपरेशन दूरबीन से किये जा सकते हैं केवल मरीज़ ओपरेशन के लिये फिट होना चाहिए. 7.रोबोटिक सर्जरी क्या है ? रोबोटिक सर्जरी लेप्रोस्कोपी का ही और परिष्कृत रूप है जिसमे रोबोट की सहायता से , सर्जन अधिक कार्य कुशलता से कार्य कर सकता है , ओपरेशन सर्जन ही करते हैं पर उसी कमरे में और 3D केमरे की सहायता से ओपरेशन किया जाता है. रोबोटिक सर्जरी से भी उपरोक्त्त सारे ओपरेशन किये जा सकते हैं, परन्तु अभी भी रोबोटिक सर्जरी में होने वाला खर्च अधिक है अतः केवल कुछ बड़े ओपरेशन में ही इसका उपयोग किया जाता है जिसमे अधिक कार्यकुशलता की ज़रुरत होती है . आने वाले समय में रोबोटिक सर्जरी से सारे ओपेरेशन करना आर्थिक रूप से संभव हो सकेगा . आशा करते हैं की इस माध्यम से लेप्रोस्कोपी से सम्बंधित समस्या का समाधान हुआ होगा .इसके अलावा लेप्रोस्कोपी से सम्बंधित अधिक जानकारी के लिए वेबसाइट (sudarshanhospital.wordpress.com) अथवा प्रश्न हमें ईमेल hospitalsudarshan@gmail.com पर भेज कर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. लेखक : © Dr Shubham S.Negi M.S. F M A S (Minimal Access Surgery) Consultant Laparoscopic & General Surgeon, Sudarshan Hospital,Ahedabad. Mo:9979895087
Posted on 08 Oct 2016
LAPAROSCOPY :Laparoscopic Surgery : Keyhole Surgery:Minimal Invasive Surgery( दूरबीन से पेट के ओपरेशन ) आज के बदलते समय में जहाँ टेक्नोलॉजी ने हमारे आसपास का सब कुछ बदल दिया है, वहीँ ओपरेशन पद्धति में भी टेक्नोलॉजी के आगमन से क्रांतिकारी परिवर्तन हुए हैं . ऐसा ही एक परिवर्तन है – “लेप्रोस्कोपी” या “की होल” या “दूरबीन से सर्जरी“. इस लेख का हिंदी में लिखने का उद्देश्य है कि इस ओपरेशन की प्रणाली को मरीज एवं सभी लोग समझें ताकि इसके फायदे पता चलें एवं भ्रम दूर हों . कुछ प्रश्न जो हर व्यक्ति लेप्रोस्कोपी के बारे में जानना चाहता है. (Frequently Asked Questions on Laparoscopy) 1.लेप्रोस्कोपी क्या है : लेप्रोस्कोपी , पेट के अन्दर दूरबीन डाल के अन्दर के अंगों की जांच और उसके रोगों के निदान की तकनीक है. इस तकनीक से विश्वभर में पेट के अन्दर के ही नहीं बल्कि छाती के अन्दर, फेफड़ों में और यहाँ तक की थाइरोइड के ओपरेशन भी सफलता पूर्वक किए जा रहे हैं. सन 1990 के बाद से यह तकनीक मरीजों के लिए वरदान साबित हो रही है एवं समय समय पर इसमें बड़े बदलाव भी आ रहे हैं जैसे HI DEFINITION ,रोबोट द्वारा सर्जरी, सिंगल पोर्ट( केवल एक 3 CM के नाभि पर एक चीरे से सर्जरी) , जटिल ओपरेशन के साधन , 3D तकनीक, जिससे इस तकनीक का इस्तेमाल मरीजों के लिए बहुत लाभदायक साबित हो रहा है. 2.इसमें ओपरेशन कैसे किया जाता है? सामान्य ओपरेशन से ये कैसे अलग होता है ? सामान्य ओपरेशन में जहाँ का ओपरेशन करना है वहां पर कम से कम 3 CM का चीरा लगाया जाता है , और जरूरत पड़ने पर बढाया जा सकता हैं img_20140904_124231 दूरबीन से एक ओपरेशन के बाद का फोटो : लगभग सभी ओपरेशन 4 से 5 इस तरह के Key holes से किये जा सकते हैं . लेप्रोस्कोपी तकनीक में मरीज को बेहोश करने के बाद पेट के ओपरेशन के लिए नाभि में एवं पेट के अन्य भाग में जरूरत के अनुसारले 5MM से ले के 10MM तक के चीरे रख के अन्दर दूरबीन डाली जाती है. एवं पेट को CO2 गैस डाल कर फुलाया जाता है, इससे अन्दर काम करने की जगह बनाकर दूरबीन से मोनिटर पर देख के ओपरेशन किया जाता है .ओपरेशन के बाद गैस निकाल कर टाँके लगा कर छेद बंद कर दिए जाते हैं . 3.लेप्रोस्कोपी के फायदे क्या क्या हैं? लेप्रोस्कोपी पेट के जिन रोगों में की जाती है उनमे मरीज को होने वाले फायदे , जो मरीज स्वयं एवं सगे सम्बन्धी प्रत्यक्ष रूप से महसूस कर सकते है और देख सकते हैं ,इस प्रकार हैं पेट में छोटे छोटे चीरे लगाये जाते हैं , जिससे ओपरेशन के बाद मरीज को दर्द कम होता हैं अस्पताल से जल्दी छुट्टी मिल जाती है. कम टाँके लगते हैं तो ड्रेसिंग में होने वाला दर्द भी कम होता है, अधिक समय तक आराम करने की आवश्यकता भी नही होती. इसके अलावा ,मरीज को और भी कुछ और फायदे हैं जो मरीज नहीं महसूस सकता परन्तु शरीर के लिए लाभदायक होते हैं जैसे- सामान्य ओपेरेशन में ज्यादा गहरा तक देखने के लिए बड़ा चीरा लगाना पड सकता है जबकि दूरबीन से पेट का हर कोना अच्छी तरह बड़ा करके (zoom) देखा जा सकता है, कभी कभी अधिक से अधिक ५ MM का एक और चीरा लगाने की आवश्यकता होती है . दूरबीन से पेट के और भी किसी अन्य रोग ,जिसका पता जांच में ना चल पाया हो, चाहे वो पेट के किसी और कोने में हो ,उसका भी निदान और उसी ओपरेशन के साथ या बाद में उपचार किया जा सकता है. चीरे एवं विच्छेदन कम होने से शरीर के अन्दर सूजन कम आती है फलस्वरूप घाव जल्दी से भरते हैं . ओपरेशन में रक्तस्त्राव कम होता है ,खून कम लगता है, तो खून चढाने की जरूरत भी कम होती है कम टाँके लगने से उनके पकने की सम्भावन अभी कम होती है. ये उन मरीजों के लिए ज्यादा लाभदायक होता है जिनका वजन ज्यादा होता है य पेट में चर्बी ज्यादा होती है. शरीर इस तरह के ओपरेशन को अच्छे से सहन कर सकता है, होस्पिटल में कम समय रहने से मरीज घर पर ज्यादा अच्छा महसूस करता है और जल्दी ठीक होता है. मरीज का खाना पीना जल्दी शुरू हो जाता है , इससे कमजोरी नहीं आती. १-२ दिन में मरीज सोकर यात्रा कर सकता है 4.लेप्रोस्कोपी के नुकसान क्या क्या हैं ? कभी कभी और किसी किसी मरीज में , बीमारी की अवस्था (स्टेज) के अनुसार , दूरबीन से ओपरेशन करना , या ओपरेशन को पूर्ण करना सम्भव नहीं होता , और उस ओपरेशन की जगह सामान्य ओपरेशन करना पड़ता है , जिसका निर्णय , सर्जन मरीज के हित में करता है . इस तरह देखा जाय तो , जब तक मरीज या बीमारी , दूरबीन से ओपरेशन के लिए उपयुक्त हो, दूरबीन से ओपरेशन करना मरीज के हित में है . 5.क्या लेप्रोस्कोपी इलाज महंगा है? नहीं , यदि आप सामान्य ओपरेशन में होने वाले खर्च जैसे ज्यादा दिन अस्पताल में रहने का खर्च, सम्बन्धियों के रहने का खर्च और दवाओं का खर्च ड्रेसिंग का खर्च एवं, मरीज को होने वाले फायदे देखें , इन सबके मुकाबले , लेप्रोस्कोपी का खर्च सिर्फ कुछ ही ज्यादा या बराबर होगा. इसके अलावा, किसी भी मरीज के लिए कोई भी ओपरेशन एक महत्वपूर्ण घटना एवं अनुभव होता है , और इसे भी मरीज कम दर्द के साथ अनुभव करे ऐसा हर डॉक्टर एवं मरीज की इच्छा होती है जो इस तरढ़ के ओपरेशन से संभव हो पाता है. पूर्व में लेप्रोस्कोपी भी काफी महँगी हुआ करती थी पर आजकल इसका खर्च कम होता है 6.कौन कौन से ओपरेशन दूरबीन से किये जा सकते हैं? सभी पेट के ओपेरेशन जैसे अपेंडिक्स पित्ताशय की पथरी (गाल ब्लेडर स्टोन ) पित्त नली की पथरी (पीलिया ) अन्ननली की रूकावट या कैंसर आंत पेट के अल्सर ,आंत के अल्सर , पेट की गठान लीवर , पैंक्रियास , तिल्ली (स्प्लीन) की गाँठ , सिस्ट हर्निया , किडनी की गाँठ एवं पथरी , गर्भाशय की गाँठ अंडाशय की गाँठ, सामान्य ओपरेशन के बाद हुई गाँठ (INCISIONAL HERNIA). नाभि की गाँठ(umbilical hernia) आँतों का आपस में चिपक जाना ,आँतों का उलझ जाना मल मार्ग का बहार आना, (prolapse) पेट के समस्त कैंसर जठर, अन्ननली , आंत ,गाल ब्लेडर ,लीवर,पैंक्रियास,-निदान और उपचार. प्रोस्टेट से पेशाब में रूकावट या कैंसर किडनी प्रत्यारोपण इत्यादि . वजन कम करने के ओपरेशन (Obesity Surgery) इस तरह, लेप्रोस्कोपी से लगभग सारे सामान्य एवं जटिल से जटिल ओपरेशन दूरबीन से किये जा सकते हैं केवल मरीज़ ओपरेशन के लिये फिट होना चाहिए. 7.रोबोटिक सर्जरी क्या है ? रोबोटिक सर्जरी लेप्रोस्कोपी का ही और परिष्कृत रूप है जिसमे रोबोट की सहायता से , सर्जन अधिक कार्य कुशलता से कार्य कर सकता है , ओपरेशन सर्जन ही करते हैं पर उसी कमरे में और 3D केमरे की सहायता से ओपरेशन किया जाता है. रोबोटिक सर्जरी से भी उपरोक्त्त सारे ओपरेशन किये जा सकते हैं, परन्तु अभी भी रोबोटिक सर्जरी में होने वाला खर्च अधिक है अतः केवल कुछ बड़े ओपरेशन में ही इसका उपयोग किया जाता है जिसमे अधिक कार्यकुशलता की ज़रुरत होती है . आने वाले समय में रोबोटिक सर्जरी से सारे ओपेरेशन करना आर्थिक रूप से संभव हो सकेगा . आशा करते हैं की इस माध्यम से लेप्रोस्कोपी से सम्बंधित समस्या का समाधान हुआ होगा .इसके अलावा लेप्रोस्कोपी से सम्बंधित अधिक जानकारी के लिए वेबसाइट (sudarshanhospital.wordpress.com) अथवा प्रश्न हमें ईमेल hospitalsudarshan@gmail.com पर भेज कर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. लेखक : © Dr Shubham S.Negi M.S. F M A S (Minimal Access Surgery) Consultant Laparoscopic & General Surgeon, Sudarshan Hospital,Ahedabad. Mo:9979895087

Clinic Gallery

Review & Ratings

No reviews yet.

Public Videos

No reviews yet.

Specialization

  • General Surgeon

Awards

2013
FELLOWSHIP IN MINIMAL ACCESS SURGERY (F.M.A.S.), AWARDED BY ASSOCIATION OF MINIMAL ACCESS SURGEONS OF INDIA.

Memberships

LIFE MEMBER, ASSOCIATIONS OF SURGEONS OF INDIA, ASI,
LIFE MEMBER, ASSOCIATIONS OF MINIMAL ACCESS SURGEONS OF INDIA,AMASI,
LIFE MEMBER, GUJARAT STATE SURGEONS ASSOCIATION, GSSA.
LIFE MEMBER, INDIAN MEDICAL ASSOCIATION,
LIFE MEMBER, SABARMATI MEDICAL ASSOCIATION

Core Interest Areas

LAPAROSCOPY
Endocrine and Breast Surgery
Laparoscopic Cholecystectomy ( Gall bladder removal)